About the Indian Constitution point

भारत के संविधान का निर्माण जुलाई 1946 में कैबिनेट मिशन योजना के आधार पर गठित भारत की संविधान सभा द्वारा किया गया

संविधान सभा का प्रथम अधिवेशन 9 दिसंबर 1946 को हुआ

11 दिसंबर 1946 को डॉ राजेंद्र प्रसाद को संविधान सभा का स्थाई अध्यक्ष चुना गया

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर प्रारूप समिति के अध्यक्ष से 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा ने भारतीय संविधान को अंतिम रूप प्रदान किया

संविधान के 15 अनुच्छेद 26 नवंबर 1949 को ही लागू कर दिए गए थे लेकिन शेष संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया

संविधान सभा की अंतिम बैठक 24 जनवरी 1950 को हुआ और इसी दिन संविधान सभा द्वारा डॉ राजेंद्र प्रसाद को भारत का प्रथम राष्ट्रपति चुना गया

संविधान निर्माण में 2 वर्ष 11 महीने और 18 दिन लगे

जिसमें कुल खर्च 63 लाख 96 हजार 729 रुपए हुए

अपने अंतिम रूप में मूल संविधान में 395 अनुच्छेद और 8 अनुसूचियां थी

भारतीय संविधान की प्रस्तावना

“हम भारत के लोग भारत को एक संपूर्ण प्रभुत्व संपन्न, समाजवादी, पंथनिरपेक्ष, लोकतांत्रिक गणराज्य बनाने के लिए तथा उसके समस्त नागरिकों को सामाजिक, आर्थिक और सामाजिक न्याय विचारधारा अभिव्यक्ति विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त कराने के लिए तथा उस उन सब में व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता तथा अखंडता सुनिश्चित कराने वाली बंधुता बढ़ाने के लिए दृड – संकल्प होकर अपनी इस संविधान सभा में आज दिनांक 26 नवंबर 1949 ईस्वी को एतद् द्वारा इस संविधान को अंगीकृत अधिनियम और समर्पित करते हैं”

प्रारूप समिति के सदस्य

डॉक्टर भी मराव अंबेडकर अध्यक्ष
एन गोपालस्वामी
अल्लादी कृष्णस्वामी अय्यर
कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी
सैयद मोहम्मद सादुल्ला
एन माधव राय
डीपी खेतान

एन माधव राय (इन्हें बीएल मित्र के स्थान पर नियुक्त किया गया था )

डीपी खेतान (1948 में इनकी मृत्यु के बाद टीटी कृष्णमाचारी को नियुक्त किया गया था)

Leave a Reply