Bidhan Mandal in Hindi

भारतीय संविधान में प्रधानमंत्री का प्रावधान अनुच्छेद 74(1) में है

मंत्रिमंडल में राज्यसभा के सदस्य भी शामिल किए जा सकते हैं

गैर निर्वाचित व्यक्ति भी मंत्री बनाया जा सकता है लेकिन उसे 6 माह के अंदर किसी सदन का सदस्य निर्वाचित होना होगा

मंत्री परिषद में तीन प्रकार के मंत्री होते हैं
(1)कैबिनेट मंत्री
(2)राज्य मंत्री
(3)उप मंत्री

मंत्रिमंडल लोकसभा के प्रति सामूहिक रूप से जिम्मेदार होता है

संविधान में संसद का प्रावधान अनुच्छेद 79 में है

संसद के तीन अंग
(1)राष्ट्रपति
(2)राज्यसभा और
(3)लोकसभा में है

राज्यसभा को उच्च सदन या द्वितीय सदन के नाम से जाना जाता है

राज्यसभा का गठन 3 अगस्त 1952 को हुआ था

राज्यसभा में अधिकतम 250 सदस्य हो सकते हैं

जहां पर विधानसभा नहीं है वहां राज्यसभा के सदस्यों का निर्वाचन निर्वाचन मंडल करता है

1 वर्ष में राज्यसभा का कम से कम 2 सत्र बुलाना अनिवार्य है

राज्यसभा की गणपूर्ति, सदस्य संख्या का 1/10 होता है

राज्यसभा राष्ट्रपति तथा उपराष्ट्रपति के निर्वाचन में भाग लेती है

किसी नई अखिल भारतीय सेवा के सृजन का अधिकार राज्य सभा को है

लोकसभा के सदस्यों की संख्या 552 हो सकती है

वर्तमान में लोकसभा में 545 सदस्य हैं

लोकसभा सदस्य की न्यूनतम आयु 25 वर्ष होनी चाहिए

61वें संविधान संशोधन अधिनियम 1988 द्वारा मतदान की न्यूनतम आयु 21 वर्ष से घटाकर 18 वर्ष कर दी गई है

पांचवी लोकसभा का कार्यकाल देश में आपात स्थिति लागू करने के कारण सबसे ज्यादा रहा

यदि कोई सांसद लगातार 60 दिनों तक सदन की बिना पूर्व अनुमति के अनुपस्थित रहे, तो उसका स्थान रिक्त घोषित किया जा सकता है

यदि कोई व्यक्ति एक ही साथ दो सदनों में चुन लिया जाता है तो उसे एक सदन की सीट को त्याग पत्र देना होगा

यदि राज्यसभा धन विधेयक को 14 दिन के अंदर नहीं लौट आती है तो विधेयक उसी रूप में पारित माना जाएगा

लोकसभा के सदस्य मंत्री परिषद् के विरुद्ध अपना विरोध कटौती प्रस्ताव या निंदा प्रस्ताव के द्वारा प्रकट करते हैं

धन विधेयक को लोकसभा अध्यक्ष प्रमाणित करता है

संयुक्त अधिवेशन की अध्यक्षता लोकसभा करता है

राष्ट्रपति अनुच्छेद 108 के तहत दोनों सदनों का संयुक्त अधिवेशन आमंत्रित करता है

Leave a Reply